18-03-2020 Wednesday

बीएसएफ के 60 कार्मिक नार्थ बंगाल से आधी रात जैसलमेर पहुंचे, मंगलवार रात ढाई बजे तक चिकित्सा दल जुटा रहा इनकी मेडिकल जाँच में

जैसलमेर, 18 मार्च/कोरोना वायरस संक्रमण को लेकर चिकित्सा एवं स्वास्थ्य विभाग हर स्तर पर सतर्क है और इस दिशा में सभी संभव ऎहतियाती उपायों को बेहतर ढंग से तथा पूरी तत्परता से अंजाम दिया जा रहा है।

 नार्थ बंगाल से बीएसएफ के 60 कार्मिकों के रेल द्वारा जैसलमेर पहुंचने पर आधी रात बाद श्री जवाहिर चिकित्सालय में इनकी कोरोना संक्रमण से संबंधित मेडिकल जांच की गई। चिकित्सा दल रात ढाई बजे तक इनकी जाँच में जुटे रहे। 

प्रमुख चिकित्सा अधिकारी डॉ. बी.एल. बुनकर ने बताया कि सीमा सुरक्षा बल की 161 वीं बटालियन के उप कमाण्डेट से यह जानकारी मिली कि लगभग 60 बीएसएफ के कार्मिक ट्रेन से नार्थ बंगाल से जैसलमेर आ रहे हैं। यह जानकारी मिलते ही प्रमुख चिकित्सा अधिकारी द्वारा तत्काल चिकित्सा दल गठित किया गया। इसमें वरिष्ठ चिकित्सा अधिकारी डॉ. दिलीप विजयवर्गीय, चिकित्सा अधिकारी डॉ. जी.पी. मीना एवं डॉ. भवानीशंकर तथा मेल नर्स ग्रेड-2 कपिल महेचा शामिल किए गए।

इस दल ने चिकित्सालय के कमरा नम्बर 11 में आवश्यक उपकरणों के सहयोग से इन सभी बीएसएफ कार्मिकों की कोरोना संक्रमण की स्क्रीनिंग व समुचित चिकित्सकीय जांच की।

जिला कलक्टर ने की सराहना

जिला कलक्टर ने चिकित्सा दल एवं विभाग द्वारा कोरोना संक्रमण से बचाव के लिए तत्परता से किए जा रहे ऎहतियाती उपायों की सराहना की है और कहा है कि इसी तरह सभी को मिलजुलकर कोरोना से मुकाबला करना है।

---000---

मॉस्क एवं सेनेटाईजर की कालाबाजारी हुई तो होगी कानूनी कार्यवाही

जैसलमेर, 18 मार्च/ कोरोना वायरस संक्रमण से बचाव के लिए सर्जिकल मॉस्क, एन-95 मॉस्क एवं सेनेटाईजर को आवश्यक वस्तु अधिनियम में शामिल किया गया है। इस सामग्री के उत्पादन, गुणवत्ता एवं वितरण को कानून के दायरे में लाया गया है। जिले में मॉस्क एवं सेनेटाईजर को निर्धारित दर से अधिक दरों पर विक्रय नहीं किया जाना चाहिए। इनकी कालाबाजारी करने वालों के खिलाफ सख्त कानून कार्यवाही की जाएगी। चिकित्सा एवं स्वास्थ्य विभाग तथा जिला प्रशासन ने इस दिशा में सख्ती बरतनी आरंभ कर दी है।

दुकानों के बाहर लगाएं रेट लिस्ट

मेडिकल उपकरणों व दवाइयों की दुकान संचालकों को यह निर्देश दिए गए कि अपनी दुकानों के बाहर इस सामग्री की रेट लिस्ट अनिवार्य रूप से प्रदर्शित की जानी चाहिए। ऎसा नहीं करने वालों को बख्शा नहीं जाएगा। यह भी कहा गया है कि कोरोना वायरस संक्रमण की रोकथाम के लिए चलाए जा रहे जनजागरुकता कार्यक्रम में हर स्तर पर सहयोग प्रदान करें और अपने जैसलमेर के लिए अपनी समर्पित भागीदारी का निर्वाह करें।

सभी केमिस्ट, दुकानदारों आदि को यह भी कहा गया कि अपने सम्पर्क में आने वाले सभी लोगों को कोरोना वायरस से बचाव के लिए उपायों को बताएं तथा खुद भी संक्रमण से बचने के प्रति सतर्क रहें। इन दुकानदारों को यह भी निर्देश दिए गए कि दुकान पर जब भी कोई टीबी की दवाइयां लेने आए, तो उस टीबी मरीज की सूचना भी आवश्यक रूप से चिकित्सा विभाग को दें।

---000---

जैसलमेर - कोरोना वायरस संक्रमण की रोकथाम के ऎहतियाती उपाय युद्धस्तर पर जारी,

हर स्तर पर चलाया जा रहा है जनचेतना अभियान,

जैसलमेर, 18 मार्च/कोरोना वायरस संक्रमण से बचाव एवं रोकथाम के ऎहतियाती उपायों के अन्तर्गत जैसलमेर जिले में व्यापक स्तर पर विभिन्न गतिविधियों का संचालन किया जा रहा है और इसके बेहतर परिणाम सामने आ रहे हैं।

जिला प्रशासन और चिकित्सा एवं स्वास्थ्य विभाग सहित विभिन्न विभागों के सहयोग से जिले भर में लोक चेतनापरक गतिविधियां चलाई जाकर जन-जन को इससे बचाव के उपायों के बारे में जागरुक किया जा रहा है। कोरोना से बचाव के लिए जैसलमेर जिले में युद्धस्तर पर जनजागृति और विभिन्न गतिविधियां चलाई जा रही हैं।

जैसलमेर शहर में रसायन स्प्रे जारी

कोरोना वायरस संक्रमण की रोकथाम के लिए जैसलमेर शहर में नगर परिषद द्वारा सोडियम हाईपोक्लोराईड़ रसायन के छिड़काव की शुरूआत की गई। नगर परिषद आयुक्त बृजेश राय ने बताया कि शहर के भीड़-भाड़ वाले क्षेत्रों, उद्यानों, सार्वजनिक स्थलों, राजकीय कार्यालयों, रेलिंग्स आदि स्थलों पर अभियान के रूप में यह कार्य किया जाएगा।

रामदेवरा मन्दिर में संक्रमण निरोधी गतिविधियां

रामदेवरा मन्दिर क्षेत्र में पानी के साथ एक प्रतिशत सोडियम हाईपोक्लोराइड़ मिश्रित रसायन से धुलाई कार्य किया गया। रेलिंग, द्वारों, मन्दिर परिसर आदि उन सभी क्षेत्रों में रसायन से धुलाई की गई जहाँ अक्सर भीड़-भाड़ और लोगों की आवाजाही बनी रहती है। सांकड़ा ब्लॉक के खण्ड मुख्य चिकित्सा अधिकारी डॉ. लाेंग मोहम्मद के निर्देशन में रामदेवरा क्षेत्र में यह कार्य किया गया।

व्यापक प्रचार-प्रसार गतिविधियां परवान पर

जिले भर में कोरोना वायरस संक्रमण की रोकथाम के लिए इसके लक्षणों और बचाव के बारे में विभिन्न माध्यमों से व्यापक लोकचेतना गतिविधियां संचालित की जा रही हैं। जिले में होडिंग्स, बेनर, पेम्पलेट्स, घर-घर जाकर जानकारी देने केे कार्य युद्धस्तर पर जारी हैं।

हाथ न मिलाएं, नमस्ते को अपनाएं

जिले भर में चिकित्सा एवं स्वास्थ्य कर्मियों द्वारा चिकित्सा केन्द्रों एवं अस्पतालों में आने वाली सभी प्रकार के मरीजों एवं उनके परिजनों को भी कोरोना वायरस से बचाव के उपायों पर जानकारी दी जा रही है और कोरोना के लक्षणों तथा बचाव के बारे में समझाईश की जा रही है। इन सभी को कहा जा रहा है कि कोरोना वायरस एक से दूसरे व्यक्ति में संक्रमण से ही फैलता है इसलिए हाथ न मिलाएं, अभिवादन के लिए नमस्ते का ही इस्तेमाल करें। कोरोना से डरें नहीं स्वयं अपनी सावधानी रखें।

हर स्तर पर लोक जागरण

जिले में कार्यरत आशा सहयोगिनियों द्वारा रोजाना घर-घर जाकर आम जन को कोरोना के लक्षण एवं बचाव से संबंधित जानकारी दी जा रही है। जिले के चिकित्सा संस्थानों में उपलब्ध एलईडी टीवी पर कोरोना वायरस से बचाव संबंधित वीडियो विज्ञापन का प्रसारण किया जाकर आम जन को जागरुक किया जा रहा है।

जिले के चिकित्सा संस्थानों में रोजाना साफ-सफाई के साथ ही संक्रमण मुक्त करने के लिए पानी के साथ एक प्रतिशत सोडियम हाईपोक्लोराइड रसायन का इस्तेमाल कर दिन में दो बार पोंछा लगाये जाने का क्रम जारी है।

होटलों, धर्मशालाओं पर विशेष निगरानी

जैसलमेर शहरी क्षेत्र में कोरोना वायरस संक्रमण से बचाव व रोकथाम के लिए चार दलों का गठन किया गया है जो कि रोजाना अपने-अपने निर्धारित कार्यक्षेत्रों में होटलों, धर्मशालाओं, रेस्ट हाउसेज आदि में संक्रमण मुक्त माहौल बनाए रखने के लिए रसायन से धुलाई व पोंछा लगाने जैसी गतिविधियों का पर्यवेक्षण एवं निरीक्षण कर रहे हैं।  इन सभी स्थानों पर पेम्पलेट्स के माध्यम से प्रचार-प्रसार कर जागरुक भी किया जा रहा है।

---000---

कोरोना वायरस संक्रमण से रोकथाम के मामले में प्रशासन सख्त,

जैसलमेर में गेस्ट हाउस व होटलों के आकस्मिक निरीक्षणों का दौर शुरू,

गाइड लाईन की पालना नहीं करने पर कक्ष सीज किए, दस्तावेज जब्त,

अव्यवस्थाएं पाए जाने पर लगाई फटकार

जैसलमेर, 18 मार्च/कोरोना वायरस संक्रमण से ऎहतियाती रोकथाम व बचाव के लिए जारी निर्देशों की अवहेलना करने वाले संस्थानों के खिलाफ कार्यवाही के लिए प्रशासन ने बुधवार को जैसलमेर शहर के गेस्ट हाउस एवं होटलों का आकस्मिक निरीक्षण किया और सख्ती से कार्यवाही की। इसके लिए प्रशासन और चिकित्सा विभागीय अधिकारियों के दल बनाए गए जिन्होंने यह कार्यवाही की।

जिला कलक्टर नमित मेहता ने यह जानकारी देते हुए बताया कि इस कार्यवाही में एक गेस्ट हाउस व होटल के कक्षों को तत्काल प्रभाव से सीज कर दिया जबकि अन्य होटलों की जांच में कोराना वायरस संक्रमण की रोकथाम के लिए जारी दिशा-निर्देशों की पालना नहीं करने तथा अव्यवस्थाएं पाए जाने पर आवश्यक कार्यवाही की गई।

कमरों को किया सीज

चिकित्सा एवं स्वास्थ्य विभागीय अधिकारियों के एक दल ने कड़ी कार्यवाही करते हुए बुधवार को जैसलमेर शहर की दो होटलों के कक्ष सीज कर दिए। इस  दल में मुख्य चिकित्सा एवं स्वास्थ्य अधिकारी डॉ. बी.के. बारूपाल, चिकित्सा एवं स्वास्थ्य विभाग द्वारा कोरोना वायरस रोकथाम गतिविधियों के लिए राज्य स्तर से नियुक्त जिला प्रभारी अधिकारी डॉ. देवेन्दर सौंधी एवं उप मुख्य चिकित्सा एवं स्वास्थ्य अधिकारी डॉ. एम.डी. सोनी शामिल थे।

इस दल ने कोरोना वायरस संक्रमण से बचाव के लिए निर्धारित मानदण्डों की अवहेलना करने पर जैसलमेर शहर के ढिब्बा पाड़ा स्थित दो होटलों के कक्षों को सीज किया है। इनमें जैसलमेर होम स्टे गेस्ट हाउस के 3 तथा ब्लेसिंग होटल के 4 कक्ष शामिल हैं।

संक्रमण से बचाव के लिए हरसंभव उपाय करें

इसी प्रकार जिला परिषद के मुख्य कार्यकारी अधिकारी ओमप्रकाश एवं उप मुख्य चिकित्सा एवं स्वास्थ्य अधिकारी (परिवार कल्याण) डॉ. आर.पी. गर्ग ने कलाकार कॉलोनी स्थित होटल मीरा महल एवं लालगढ़ फोर्ट पैलेस का आकस्मिक निरीक्षण किया और कोरोना वायरस संक्रमण की रोकथाम के बारे में राज्य सरकार द्वारा जारी निर्देशोें की पालना की स्थिति को देखा। इन अधिकारियों ने होटल को वायरस संक्रमण से मुक्त बनाए रखने के लिए सभी संभव उपाय करने के निर्देश दिए।

दस्तावेज जब्त, कार्यवाही होगी

उपखण्ड अधिकारी दिनेश विश्नोई की अगुवाई में गठित टीम खण्ड मुख्य चिकित्सा अधिकारी, जैसलमेर डॉ. लालचन्द देवन्दा व आरआई तनसिंह शामिल थे।

इस टीम ने जैसलमेर शहर में चैनपुरा एवं गीता आश्रम क्षेत्र स्थित तीन होटलों का आकस्मिक निरीक्षण किया। इनमें होटल न्यूट्रेला में अनियमितता पाए जाने पर रजिस्टर जब्ती की कार्यवाही की गई। इसी प्रकार टीम द्वारा होटल सिद्धि विनायक एवं होटल रेणुका का भी औचक निरीक्षण किया गया। होटल सिद्धि विनायक में कोरोना वायरस की रोकथाम के संबंध में जारी दिशा निर्देशों की पालना नहीं करने पर उपखण्ड अधिकारी दिनेश विश्नोई ने चेतावनी दी और दिशा निर्देशों की पूरी-पूरी पालना करने के प्रति गंभीर रहने को कहा गया।

एडवाईजरी के प्रति गंभीरता बरतें

विभिन्न निरीक्षण टीमों ने होटलों में कोरोना वायरस संक्रमण रोकने के सभी प्रकार के ऎहतियाती उपायों को पूरी तरह अपनाने के निर्देश दिए और कहा कि स्वच्छता प्रबन्धन पर विशेष ध्यान दिया जाए, रोजाना एक प्रतिशत सोडियम हाईपोक्लोराइड मिश्रित रसायन का पोंचा समय-समय पर लगवाया जाए, होटल में आने वाले विदेशी पर्यटकों से सी फार्म व सेल्फ डिक्लेरेशन फार्म अनिवार्य रूप से भरवाए जाएं, हैण्ड सेनेटाईजर और मॉस्क का उपयोग सुनिश्चित किया जाए, साफ-सफाई का विशेष ध्यान रखा जाए और जारी दिशा-निर्देशों की अक्षरशः पालना की जाए।

इन अघिकारियों ने चेतावनी दी कि दिशा निर्देशों की अवहेलना सामने आने पर सख्त कदम उठाते हुए कानूनी कार्यवाही अमल में लाई जाएगी।

जारी रहेगा औचक निरीक्षणों का दौर

जिला कलक्टर नमित मेहता ने बताया कि जिला प्रशासन चिकित्सा एवं स्वास्थ्य विभाग द्वारा जारी एडवाईजरी की अक्षरशः पालना कराने के प्रति सजग है और इस दिशा में पूरी गंभीरता बरती जा रही है।

जिला कलक्टर ने बताया कि जिले में गेस्ट हाउसेस व होटलों आदि के आकस्मिक निरीक्षण का दौर निरन्तर जारी रहेगा। प्रशासनिक एवं चिकित्सा विभागीय अधिकारियों के दलों द्वारा इस आशय का निरीक्षण किया जाएगा कि इनमें कोरोना वायरस के संक्रमण से बचाव के लिए जारी दिशा-निर्देशों की पालना की जा रही है या नहीं। जिन गेस्ट हाउस, होटलों एवं अन्य संस्थाओं में अनियमितता या लापरवाही पायी जाएगी, उन्हें सीज करने की कार्यवाही अमल में लाई जाएगी।

---000---

राशन वितरण व्यवस्था बोयोमैट्रिक के स्थान पर

ओटीपी से करने की परिवर्तित व्यवस्था सुनिश्चित

जैसलमेर, 18 मार्च/ कोरोना वायरस संक्रमण के मद्देनज़र सार्वजनिक वितरण प्रणाली की एनएफएसए योजना में पोस मशीन से राशन वितरण की वर्तमान व्यवस्था को बायोमैट्रिक के स्थान पर ओटीपी से करने हेतु परिवर्तित व्यवस्था सुनिश्चित की गई है जो 31 मार्च-2020 तक लागू रहेगी।

        जिला रसद अधिकारी भागुराम महला ने बताया कि इसके तहत सर्वप्रथम डीलर द्वारा लाभार्थी का राशनकार्ड नंबर पोस मशीन पर प्रविष्ट किया जाएगा। इसके बाद लाभार्थी के भामाशाह/जनाधार/आधार डेटाबेस में उपलब्ध मोबाइल नंबर पर एसएमएस के माध्यम से ओटीपी भेजा जाएगा। लाभार्भी द्वारा डीलर को ओटीपी उपलब्ध करवाने के पश्चात पोस मशीन में ओटीपी नंबर दर्ज कर सत्यापन उपरान्त राशन डीलर द्वारा राशन का वितरण लाभार्थी को पोस मशीन से कर दिया जाएगा।

        उन्होंने बताया कि यदि लाभार्थी डीलर को तय समय सीमा में ओटीपी उपलब्ध नहीं करवा पाता है, तो डीलर द्वारा पोस मशीन पर उपलब्ध करवाये गये ओटीपी प्राप्त नहीं हुआ है, मोबाइल नंबर रजिस्टर नहीं है एवं लाभार्थी के पास मोबाइल नहीं है में से किसी एक कारण को चुनते हुए राशन का वितरण पोस मशीन से किया जाएगा तथा ऎसे ट्रांजेक्शन की कारण सहित प्रविष्टि एक रजिस्टर में की जाएगी।

        जिला रसद अधिकारी ने बताया कि इस प्रकार विभाग द्वारा वर्तमान में बायोमैट्रिक सत्यापन पर रोक लगा दी गई है परन्तु राशन वितरण के समस्त ट्रांजेक्शन पोस मशीन द्वारा उक्त तरीके से किये जाएंगे। उन्होंने बताया कि समस्त राशन डीलरों द्वारा एक रजिस्टर बनाया जाएगा जिसमें पोस मशीन में बिना ओटीपी के ट्रांजेक्शन का रिकार्ड रखना होगा।

--000--